सोशल मीडिया से

कन्हैया कुमार खुद भी फसोगे और दो चार को भी फसाओगे sorry मरवाओगे – चेतन थांबे

सोशल मीडिया पर JNU को लेकर लोग अपने अपने विचार रख रहे है उन्ही में से  एक अंबेडकरवादी Chetan Thanbe ने भी  लिखा है  प्रस्तुत आर्टिकल श्री निवास शंकर राय की फेसबुक वाल से लिया गया है I एन सी आर खबर का इससे सहमत होना अनिवार्य नहीं है

सम्पादक

 

 

कन्हैया कुमार 
भाई हम आंबेडकरवादियो को आपसे sympathy है , हमदर्दी है , क्योकि हम जानते है आप लोग फसाये गये है आप लोग तो बस कठपुतली है जो किसी और के इशारे पर नाचते हो |

क्या सही , क्या गलत जो समझ नही सकता या समझकर भी समझना नही चाहते उसे तो हम कठपुतली ही बोलेगे

आप वामपंथी लोग रोहित वेमुला के मामले को दबाने या sideline करने के मामले मे उतने ही दोषी हो जितने संघी और मिडीया वाले है

आज मोदी के मध्ययुगीन शासनकाल मे मुस्लीम से related किसी भी मसले पर बात करना या मसले को उठाना सिधे आपको देशद्रोही ठहराने के लिए काफी है फिर भाई आप तो jnu मे President थे
किस बात का क्या उलटा reaction होगा ये तो नेता को पहले से अंदाजा लग जाना चाहिए या लगाना चाहिए
अगर आप अंदाजा नही लगा सकते तो फिर आपको leadership करने का कोई हक नही है खुद भी फसोगे और दो चार को भी फसाओगे sorry मरवाओगे

वामपंथीयो की असली समस्या उनका JNU मे खत्म होता वर्चस्व है
जय भीम ये global phenomena है | जय भीम वाले जिस तादाद मे jnu मे आ रहे है, बढ रहे है वो वामपंथी वर्चस्व को चुनौती है
इसलिए वामपंथी लोग रोहित वेमुला के मसले से युवाओ का ध्यान हटाने के लिए या सबका ध्यान इस मुद्दे से भटकाने के लिए ” अफजल गुरू ” के मसले पे आ गये |

संसद पर हमले का दोषी व्यकती देशद्रोही ही है इसमे हमे कोई संदेह नही है , पर वो मुसलमान है इसलिए उसका समर्थन करना गलत है| खुद मुसलमान भी सहमत है कि वो देशद्रोही है

मुसलमान का मसला लेना ही था तो अखलाक का मामला था , मुजफरनगर दंगे का मामला था सच्चर कमेटी का मसला था 
मुस्लीम education और unemployment का मुद्दा था
ये सारे मसले मुस्लीमो के लिए priority level पर सबसे उपर है |

हम Ambedkarites आंबेडकरवादी इन मसलो पर मनुवादियो से लडते है टकराते रहते है | इन मसलो पर हम मुस्लीमो के साथ कंधा से कंधा मिलकर लडते रहे है

पर ” अफजल गुरू ” वाला मामला ये कही से भी मुसलमानो से related नही है| ये वास्तविक मुद्दा है ही नही मेरे नजरिए से

अब सवाल ये उठता है कि वामपंथी हमेशा इस मसले पर क्यो लगे रहते है और दुसरे तरिके से मनुवाद को हमेशा मजबुत करते है
संघ को मौका मिल जाता है इस मुद्दे पर मुस्लीम द्वेष पैदा कर लोगो की भावनाओ को भडकाने का और आप जैसे युवा (भटके हुए) भी संघ को indirectly मजबुत करने मे मददगार साबित होते है

ये बहोत ऊचे दर्जे की politics है |

संघ ABVP वालो ने आपके मोर्चे मे घुसकर जो भारत विरोधी नारे लगाये वो politically correct है
political निती के अनुरूप बिल्कुल सही है
और ये politics है इसमे गलत क्या है ! everything is fair in love and politics because politics is last refuge of scoundrels

गलती आप जैसे युवा लोगो की है
अब वामपंथी युवाओ ने ये सोचना चाहिए क्यो आजतक वामपंथ सफल नही हुआ भारत मे

ब्राहम्णवाद की दायी भुजा अगर Cong bjp है तो बायी भुजा वामपंथी है
जब दाया हाथ तकलीफ मे आता है तब बाया हाथ मदद को आता ही है

जब ये विचार हम रखते थे तब युवा लोग कहते थे ऐसा हो ही नही सकता पर अब हमारे विचारो को आप लोगो ने सही साबित कर दिया | हमे एक solid example की जरूरत थी वो अब हमे इस घटना के रूप मे वो bad example हम अब आसानी से बता सकते है दिखा सकते है और अब काफी सारे यनवा हमारी बात को समझने लगे है कि आप लोग सही बोलते थे

रही बात रोहित वेमुला के बलिदान की तो वो आंदोलन अब और तेज गति से चलेगा
रोक सको तो रोक लो
” एकलव्य हम शर्मिदा है
द्रोणाचार्य आज भी जिंदा है ”

जय भीम जय भारत
चेतन थांबे

About the author

एन सी आर खबर ब्यूरो

एनसीआर खबर.कॉम दिल्ली एनसीआर का प्रतिष्ठित और नं.1 हिंदी समाचार वेब साइट है। एनसीआर खबर.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय,सुझाव और ख़बरें हमें mynews.ncrkhabar@gmail.com पर भेज सकते हैं या 09654531723 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं