दुनिया

अफगान, समलैंगिक और सजा-ए-मौत

gay afghan defies tradition to expose identity

हामिद जाहेर अफगानिस्तान के रहने वाले हैं और पेशे से एक दवा विक्रेता है।

पहली नजर में उनकी जिंदगी एक आम आदमी की तरह है, लेकिन सच ये है कि वो अपने घर से हजारों किलोमीटर दूर कनाडा के टोरंटो शहर में रहने को मजबूर हैं।

उनका अपराध है कि उन्होंने अफगानिस्तान में एक नियम तोड़ा और दुनिया को ये जाहिर किया कि वो एक समलैंगिक हैं।

अफगानिस्तान एक ऐसा देश है जहां समलैंगिकता अपराध है और समलैंगिक होने का मलतब है सजा ए मौत। अपने समलैंगिक होने के अनुभव पर उन्होंने एक किताब लिखी जो अफगानिस्तान में कभी नहीं छपी।

दूसरों से अलग हैं
हामिद कहते हैं कि उन्हें शुरू से इस बात का एहसास था कि वो दूसरों से कुछ अलग हैं। अफगानिस्तान के एक गांव में 1980 के दशक में उनका बचपन बीता। उन दिनों को याद कर हामिद कहते हैं कि मौत और यातनाओं के डर से उन्होंने हमेशा अपनी भावनाओं को दूसरों से छिपाया।

बीबीसी से बात करते हुए वो कहते हैं कि जब मैं बड़ा हो रहा था मैं कई बार पुरुषों की तरफ आकर्षित हुआ, लेकिन मैं 15 की उम्र से पहले कभी ये जान नहीं पाया कि मेरी यौन इच्छाएं दूसरे लड़कों से अलग है।

समय के साथ मेरे भीतर कुछ बदलाव हुए और मेरे आस-पास लोगों को लगने लगा कि मेरा व्यवहार औरतों जैसा है और उन्होंने मुझे छेड़ना शुरू कर दिया।

सजा-ए-मौत
अपने छात्र जीवन के दौरान यह जानने के बावजूद कि वो समलैंगिक हैं उन्होंने मौत की सज़ा सुनाए जाने के डर से इस बात को हर किसी से छिपाए रखा।

मुश्किलें तब खड़ी हुईं जब 25 साल की उम्र में उन पर शादी के लिए दबाव बनाया जाने लगा। वो कहते हैं कि अफगानिस्तान में समलैंगिक होने का मतलब है मौत। सरकार को छोड़िए मेरे अपने रिश्तेदार मुझे मार डालते।

उनकी रोजमर्रा जिंदगी जब बेहद मुश्किल हो गई तो वो भागकर पाकिस्तान चले गए और उसके बाद कनाडा में शरण ली। वो कहते हैं कि मैंने अफगानिस्तान में समलैंगिक होने के अपने अनुभवों पर किताब लिखी ताकि लोग ये जानें कि अफगानिस्तान में समलैंगिक किस त्रासदी से गुज़रते हैं और उस देश में अपनी यौन इच्छाओं को जाहिर करना कितना बड़ा अपराध है।

गुमनाम समलैंगिक
काबुल विश्वविद्दालय के एक प्रोफेसर दाउद रवीश कहते हैं कि कोई भी कभी भी यह जान नहीं सकता कि अफगानिस्तान में कितने समलैंगिक हैं क्योंकि लोग रही नहीं कानून भी ये कहता है कि समलैंगिक व्यक्ति एक असमान्य व्यक्ति है।

हामिद ने दुनिया को अपनी पहचान जाहिर की लेकिन इसकी एक बड़ी कीमत भी चुकाई है। उनके परिवार ने उन्हें तिरस्कृत कर दिया है और उनके अपने देश में लोग उनकी ज़िंदगी को खत्म करना चाहते हैं।

लेकिन हामिद के लिए अपनी आवाज अफगानिस्तान के दूसरे गुमनाम समलैंगिकों तक पहुंचाना वो मकसद है जिसके लिए वो ये दुख उठाने को तैयार हुए।

एन सी आर खबर ब्यूरो

हम आपके भरोसे ही स्वतंत्र ओर निर्भीक ओर दबाबमुक्त पत्रकारिता करते है I इसको जारी रखने के लिए हमे आपका सहयोग ज़रूरी है I अपना सूक्ष्म सहयोग आप हमे 9654531723 पर PayTM/ GogglePay /PhonePe या फिर UPI : 9654531723@paytm के जरिये दे सकते है एनसीआर खबर.कॉम दिल्ली एनसीआर का प्रतिष्ठित और नं.1 हिंदी समाचार वेब साइट है। एनसीआर खबर.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय,सुझाव और ख़बरें हमें mynews.ncrkhabar@gmail.com पर भेज सकते हैं या 09654531723 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button