main newsएनसीआरदिल्ली

लोकसभा में रविशंकर प्रसाद के कड़े रुख वाले बयान के बाद बदला ट्विटर का सुर, वर्चुअल बैठक में कहा भारत में अपनी नई टीम बनाएगा

कल लोकसभा में रविशंकर प्रसाद के सोशल मीडिया पर नियंत्रण और अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर दिए गए जवाब के वायरल होने के बाद अमेरिकन माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर ने झुकने के संकेत दिए हैं । जानकारी के फ्यूचर ने भारत सरकार को कहा है कि वह भारत में अपने हैं अधिकारियों की नई टीम बनाएगा और दफ़्तरों में सीनियर अफ़सरों को नियुक्त करेगा। ट्विटर के अनुसार ऐसा करने से क़ानूनी मामलों को बेहतर ढंग से हैंडल किया जा सकेगा और सरकार के साथ उसकी बातचीत भी बेहतर होगी। 

दरअसल किसान आंदोलन में किसानों के नरसंहार को लेकर तमाम हेस्टैक चले थे जिसको भारत सरकार ने ट्विटर से हटाने को कहा था क्योंकि यह देश के खिलाफ दुष्प्रचार था लेकिन ट्विटर ने अभिव्यक्ति की आजादी का हवाला देते हुए ऐसे हैंडलर्स और हैश टैग को सिर्फ होल्ड किया और बाद में उन्हें खोल भी दिया था

भारत सरकार की ओर से इसे लेकर नाराज़गी जताई गई थी कि ट्विटर ने उसके आदेश का पूरी तरह पालन नहीं किया। 4 फरवरी को आईटी मंत्रालय की ओर से ट्विटर को 1178 अकाउंट्स की सूची भेजी गई थी और कहा गया था कि इन्हें भारत में सस्पेंड या ब्लॉक किया जाए। लेकिन ट्विटर ने कहा था कि भारत के क़ानूनों के अनुसार, इन अकाउंट्स को बंद करना मौलिक अधिकारों का हनन होगा। सरकार की नाराज़गी इसी को लेकर थी। 

इसके बाद आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद का वह बयान वायरल हो गया था, जिसमें वह संसद में कह रहे हैं, “चाहे वह ट्विटर हो, फ़ेसबुक हो, वॉट्स ऐप हो या कोई और इन सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म को भारत के क़ानून और संविधान का पालन करना होगा।

इसके बाद बुधवार को सरकारी अधिकारियों और ट्विटर के बीच एक वर्चुअल बैठक हुई जिसमें ट्विटर ने भरोसा दिलाया कि वह भारत की टीम को द्वारा गठित करेगा और भारत सरकार की ओर से दिए जा रहे हैं हैंडलर्स और हैश टैग पर भी एक्शन लेगा

सरकार ने कंपनी को कुल 1435 ट्विटर अकाउंट के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी, जिनमें से अब तक 1398 अकाउंट को ब्लॉक कर दिया गया है।

भारत सरकार के कई मंत्री पहले ही देसी टि्वटर कहे जा रहे माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू एप पर भी शिफ्ट होना शुरू हो गए हैं जिसको भी भारत सरकार की दबाव की रणनीति के तौर पर देखा गया । माना जा रहा है कि बीते दिनों भारत सरकार से जुड़े प्रतिष्ठानों मंत्रियों और राष्ट्र वादियों के एक बड़े समूह का ट्विटर के साथ साथ कुए पर शिफ्ट होना भी ट्विटर को झुकने पर मजबूर किया है

NCRKhabar Mobile Desk

हम आपके भरोसे ही स्वतंत्र ओर निर्भीक ओर दबाबमुक्त पत्रकारिता करते है I इसको जारी रखने के लिए हमे आपका सहयोग ज़रूरी है I अपना सूक्ष्म सहयोग आप हमे 9654531723 पर PayTM/ GogglePay /PhonePe या फिर UPI : 9654531723@paytm के जरिये दे सकते है

Related Articles

Back to top button