main newsआज की अच्छी खबरएनसीआरदिल्ली

नवरात्रि के 7वे दिन माता के कालरात्रि रूप की पूजा से पाए सभी भय से मुक्ति

नवरात्रि के 7वे दिन माता के कालरात्रि रूप की पूजा की जाती है । अंधकारमय स्थितियों का विनाश करने वाली, काल से रक्षा करने वाली शक्ति कालरात्रि है ।इनका रूप भले ही भयंकर हो लेकिन ये सदैव शुभ फल देने वाली मां हैं। इसीलिए ये शुभंकरी कहलाईं अर्थात् इनसे भक्तों को किसी भी प्रकार से भयभीत या आतंकित होने की कतई आवश्यकता नहीं। उनके साक्षात्कार से भक्त पुण्य का भागी बनता है।

कालरात्रि की उपासना करने से ब्रह्मांड की सारी सिद्धियों के दरवाजे खुलने लगते हैं और तमाम असुरी शक्तियां उनके नाम के उच्चारण से ही भयभीत होकर दूर भागने लगती हैं। ये ग्रह बाधाओं को भी दूर करती हैं और अग्नि, जल, जंतु, शत्रु और रात्रि भय दूर हो जाते हैं।इन्हें महा-योगिनी, महा-योगिशवरि भी कहा गया है। यह नागदौन औषधि के रूप में जानी जाती है।

विज्ञापन

मां कालरात्रि का मंत्र

ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु‍ते।

Also Read:  जेवर की 6 ग्राम पंचायतों का अस्तित्व होगा समाप्त

NCRKhabar Mobile Desk

हम आपके भरोसे ही स्वतंत्र ओर निर्भीक ओर दबाबमुक्त पत्रकारिता करते है I इसको जारी रखने के लिए हमे आपका सहयोग ज़रूरी है I अपना सूक्ष्म सहयोग आप हमे 9654531723 पर PayTM/ GogglePay /PhonePe या फिर UPI : ashu.319@oksbi के जरिये दे सकते है

Related Articles

Back to top button